उत्तरकाशी : उत्तरकाशी में कूड़ा प्रबंधन सिर्फ कागज़ों व निर्देशों तक सीमित,यहां तो कूड़े के ढांग के ढांग लग रहे हैं

उत्तरकाशी : उत्तरकाशी में कूड़ा प्रबंधन सिर्फ कागज़ों व निर्देशों तक सीमित,यहां तो कूड़े के ढांग के ढांग लग रहे हैं

- in article, states, Uttarakhand, Uttarkashi
140
0
@admin
  • संतोष साह / उत्तरकाशी

नगर उत्तरकाशी में कूड़ा प्रबंधन सिर्फ कागज़ों में हो रहा है। कूड़ा वाहन सडक में दौड़ कर स्वच्छ उत्तरकाशी का हवाला देकर जो भी कूड़ा एकत्र कर ला रहा है वह गंगा किनारे डंप हो रहा है। रही बात गली मोहल्ले की तो यहाँ अपने कूड़े को थैलियों में भर भरकर लोग गंगा किनारे जगह -जगह लगे कूड़े के ढेरों में फेंक रहे हैं। गौरतलब है कि मौजूदा समय मे किसी भी वार्ड में जैविक व अजैविक कूड़े को अलग करने का पालिका य्य फिर किसी अन्य संस्था का कार्य कहीं नजर नही आता। जैविक व अजैविक कूड़े के कूड़ेदान कहीं नजर नही आ रहे है। अलबत्ता पालिका के बड़े कूड़ेदान जरूर भरे दिखाई देते हैं जिसमे जमा माल तामाखानी मे गंगा किनारे डंप हो रहा है जो कूड़ा प्रबंधन के बजाय एनजीटी व अदालत के निर्देशों की भी अवहेलना कर रहा है। इधर कूड़े का सेगरीकेशन भी तभी होगा जब भूमि होगी,यदि भूमि हुई भी तो हस्तांतरण के बाद भी क्या गारंटी की उसमें कूड़े का विरोध नही होगा। डोर टू डोर कूड़ा प्रबंधन और उसके जैविक व अजैविक के काम को लेकर यदि अंदरूनी झांके तो व्यवस्था का आलम कहीं नजर नहीं आता साथ ही जिम्मेदारी सौपें या फिर मोनिटरिंग करने वाले भी इससे भागते नजर आते हैं। इसके अलावा अवेरनेस की भी एक बहुत बड़ी कमी कूड़ा प्रबंधन का साथ नहीं दे रही।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

उत्तरकाशी : डीएम के फरमान का हुआ असर, आयुर्वेदिक के 24 कर्मियों को आपदा प्रभावित मोरी में कैम्प करने के आदेश जारी

संतोषः साह / उत्तरकाशी डीएम उत्तरकाशी के फरमान