उत्तरकाशी : जिला पंचायत में अब उल्टी गिनती शुरू, 12 को नहीं 9 अगस्त को ही चाबी प्रशासक के हाथों में,बेसब्री से हो रहा इंतजार

उत्तरकाशी : जिला पंचायत में अब उल्टी गिनती शुरू, 12 को नहीं 9 अगस्त को ही चाबी प्रशासक के हाथों में,बेसब्री से हो रहा इंतजार

- in article, states, Uttarakhand, Uttarkashi
434
0
@admin
  • संतोष साह / उत्तरकाशी

जिला पंचायत बोर्ड के दिन अब बमुश्किल कम ही बचे हैं, यानि एक तरह से प्रशासकों के हाथ मे चाबी आने की उल्टी गिनती शुरू हो गई है। अंदरूनी सूत्र बताते हैं कि जिला पंचायत प्रशासनिक महकमा इस घड़ी के बेसब्री से इंतजार मे है ताकि हालात सामान्य होने के साथ ही काम औऱ विकास कार्यों को गति मिले। गौरतलब है कि जिला पंचायत का कार्यकाल 12 अगस्त को समाप्त हो रहा है। लेकिन 12 अगस्त को ईद उल जुहा का अवकाश है। 11 अगस्त को रविवार है तो 10 अगस्त को सेकंड सैटरडे ऐसे में जो जानकारी मिली है उसके अनुसार 9 अगस्त को ही जिला पंचायत की कमान प्रशासकों के सुपुर्द हो जाएगी।
इधर उत्तरकाशी जिला पंचायत में पिछले चार महीने तक हुए ड्रामे के चलते जिस तरह से अनिश्चितता का माहौल बना था और जिससे जिला पंचायत की व्यवस्था औऱ विकास कार्य प्रभावित हुए, कर्मचारियों को वेतन के लाले पड़े उसे देखते हुए प्रशासनिक बॉडी के हाथों में कमान अब जबकि जल्द आने वाली हो तो स्वाभाविक है कि अंदुरुनी खुशी और बेसब्री का इंतजार तो होगा ही।

इस बीच जिला पंचायत के कार्यकाल के अंतिम दिनों में जिला पंचायत के उपाध्यक्ष के पास अध्यक्ष की जिम्मेदारी आई है। हाल में हुई जिला पंचायत बोर्ड की बैठक में भी अंतिम समय को देखते हुए जो चर्चा हुई वह थी योजनाओं को चढ़ाने,जो कार्य अधूरे है उनको मस्ट्रोल में कराकर भुगतान कराने, विगत 25 व 26 फरवरी की बोर्ड बैठक की कार्ययोजना को भी शामिल करने आदि पर समय को देखते हुए ही मंथन हुआ। इधर यह भी सूत्रों से जानकारी मिली है कि जिला पंचायत के कुछ एकाउंट जो कि जिला पंचायत में पूर्व में हुए ड्रामे की वजह से शासन ने लॉक किये थे वे अभी नहीं खुले हैं। जिनके आने वाले दो चार दिन में खुलने की संभावना बताई जा रही है।

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

उत्तरकाशी : अपने लेटर को लेटर बॉक्स में डालने से पहले लेटर बॉक्स की तह में जरूर जायें

संतोष साह इंटरनेट,सोशल मीडिया, मोबाइल के दौर में