जाने जयपुर के साईन्स एकस्पर्ट “विस्वास अत्री” ने रीट पेपर को कैसे हल करने की दि एडवाईज

जाने जयपुर के साईन्स एकस्पर्ट “विस्वास अत्री” ने रीट पेपर को कैसे हल करने की दि एडवाईज

- in Other Updates
644
0

 

रोहित शर्मा, ब्यूरो रिपोर्ट

जयपुर- राजस्थान मे तीन वर्ष के बाद हो रीट की परीक्षा 11 फ़रवरी 2018 को होगी | इस साल इस परीक्षा लगभग 9. 8 लाख कैंडिडेट्स इस परीक्षा में शामिल होंगे। ये परीक्षा अधिक महत्वपुर्ण इस लिऐ मानी जा रही है क्योकि इस परीक्षा के माध्यम से ही राजस्थान मे शिक्षको का चयन किया जायेगा |इस परीक्षा को लेकर राजस्थान सनसनी सुराग न्यूज के स्टेट हैड रोहित शर्मा ने जयपुर के प्रशिद्ध साईन्स एक्सपर्ट “विस्वाश अत्री “जो कि जयपुर की कई प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कराने वाली उच्च संस्थानो मे अध्यापन करा रहै |इस ईटरव्यू के दोरान साईन्स स्पेशलिस्ट विस्वास अत्री ने परीक्षार्थीयो को एडवाईज दी कि परीक्षार्थीयो को सबसे महत्वपूर्ण टॉपिकस को दोहराने की सलाह दी जाती है, यह सही समय है जब आपको अपने पेपर में सफल होने के लिए सफल रणनीति बना लेनी चाहिए। रीट मे शामिल होने वाले अभ्यर्थियो के मन मे ये सवाल आना जायज़ है कि पेपर का लेवल केसा होगा | कोनसे विषय को सबसे पहले करे तथा पेपर से पहले आने वाली रात मे पर्याप्त नीद ले
👉पेपर शुरू होने से निर्धारित समय से पहले परीक्षा कक्ष मे पहुच जाए ताकि ज़रूरी ओपचारिक़ प्रकिया को समय रहते पूरा किया जाए
इससे आपको पेपर को हल करने का पूरा समय मिलेगा |
कई लोग लेट जाते है जिस से OMR Sheet की डीटेल भी मुख्य समय मे भरते है
*👉सबसे पहले पेपर को ध्यान से पढ़े क्योकि टाइम और प्रश्न बराबर होंगे तो समय बर्बाद ना करे*
*जो विषय आपको अच्छे से आता है वो सबसे पहले करे |*

*परीक्षा प्रश्नो का लेवल*
*परीक्षा 150 अंकों की होगी,*
*जिन्हें 150 मिनट में करना* होगा।
यानी एक सवाल पर *एक मिनट* मिलेगा। सभी प्रश्न चार विकल्प वाले यानी बहुविकल्पीय होंगे।

👉 रीट परीक्षा प्राथमिक एवं जूनियर स्तर के लिए अलग-अलग हो रही है।
दोनों परीक्षाओं में पांच खंड होंगे। जूनियर स्तर की परीक्षा में यह बदलाव किया गया है कि गणित व विज्ञान शिक्षक के लिए संबंधित विषय की परीक्षा देनी होगी,
बाकी अभ्यर्थियों को सिर्फ सामाजिक अध्ययन के 60 सवालों का जवाब देना होगा।

अमूमन अभ्यर्थी शिक्षण विधि, भाषा के सवाल आसानी से कर लेते हैं,
लेकिन गणित व पर्यावरण अध्ययन के सवाल जरूर परेशान करते हैं।
इन्हीं दोनों विषयों के सवाल ही रीट की मेरिट भी तय करेंगे।

खास बात यह है कि प्राथमिक एवं जूनियर स्तर की परीक्षा में सभी सवाल इंटर स्तर के होंगे, लेकिन उसमें भी अंतर उम्र का रखा गया है।

निर्देशिका में कहा गया है कि प्राथमिक की परीक्षा में 6 से 11 वर्ष एवं जूनियर की परीक्षा में 11 से 14 वर्ष तक के बच्चों को ध्यान में रखकर समस्या समाधान एवं शिक्षण विधियों के प्रश्न होंगे।

प्रा. एवं जूनि. स्तर परीक्षा में प्रश्न इंटर स्तर के होंगे, एनसीईआरटी की कक्षा एक से आठ तक की पुस्तकों से भी होंगे प्रश्न।
अगर आपने अभी तक एनसीईआरटी की किताबों से तैयारी नहीं की है, तो अब आप केवल अभ्यास प्रश्न हल कर सकते है, इनसे भी आपको लाभ मिलेगा।

रीट मे 👉 *-नेगेटिव Marking* नही है तो आपको सारे प्रशन कर सकते है , अगर आपकी English ज़्यादा अच्छी नही है तो English Passage को लास्ट मे करे क्योकि इसमे आपको समय लग सकता है।

ध्यान रहे किसी भी सवाल मे ज़्यादा समय ना लगाए और किसी सवाल के साथ दिल ना लगाए क्योकि वो सवाल एक ही नंबर का होगा और उतने समय मे आप दूसरे सवाल को हल कर सकते है।

रीट के परीक्षा पत्र का विवरण

परीक्षा मे वो ज़्यादा सफल होता है जो स्मार्ट तरीके से काम करता है।
पेपर को 2 भागो मे करना चाहिए पहले भाग मे आप वो सवाल करे जिनके उतर आपको पका ही आता है बाद मे दूसरे दोर मे तुक्के वाले सवालो को करे ताकि खुले दिमाग़ से तुक्के मार सके।

👉अगर आपके पास समय है तो
गणित के सवालो को तोड़ा ध्यान से करे क्योकि गणित मे ग़लती होने की ज़्यादा संभावना होती है।

👉OMR SHEET को साथ साथ या थोड़े समय अंतराल मे भरते रहे |
*👉अंत मे OMR SHEET को भरने वाली आदत को बदल दे कई बार समय नही रहता है अंत मे जिस से किए हुए सवालो को OMR मे भर नही सकते और आपको कोई एक्सट्रा समय नही दिया जाएगा।*

परीक्षा मे किसी भी समय give up ना करे |
अगर आपको लगातार 4-5 सवाल नही आ रहे है तो इसका मतलब ये नही की पेपर टफ है हो सकता है आगे लगातार आसान सवाल आ जाए |

*दिमाग़ को शांत रखे | हर एक सवाल को ध्यान से पढ़े और अपना 100% उसमे दे।*

*~प्रश्न पत्र कैसे हल करे – कुछ ओर खास टिप्स*
👉परीक्षा भवन में दिए जाने वाले सभी दिशा निर्देशो का पालन करे –

👉गति व सटीकता पर ध्यान दे – परीक्षा देते समय गति और सटीकता पर ध्यान दे। परीक्षा में आप इस बात पर ध्यान दे कि आपको सवालो को जल्दी हल नही करना है बल्कि सही उत्तर प्राप्त करना है।
इसलिये सवालों कों हल करते समय इस बात पर ध्यान दे कि आपके उत्तर सही हो।
अपने मजबूत सवालो को पहले करे – जिन सवालों को हल करने में आप अच्छे हैं उन्हें पहले करे। ताकि आप ज्यादा समय आपके कमज़ोर भागों को दे सके।

पहले 30 मिनट जल्दी हल होने वाले सवालो को दे – परीक्षा को दो भागो में विभाजित कर ले। जिन सवालों को जल्दी किया जा सकता हैं उन्हें पहले 30 मिनट में कर ले। ऐसा करने से आपके पास ज्यादा समय कमजोर विषयो के लिए बोनस के रूप में बचेगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

उत्तरकाशी: जिला प्रशासन की और से शौर्य चक्र विजेता कैप्टन राहुल रमेश को उनकी छठवीं पुण्यतिथि पर श्रद्धांजलि अर्पित।

वीरेंद्र सिंह /सनसनी सुराग उत्तरकाशी। जिला प्रशासन की