जनता तय करेगी प्रसपा का भविष्य

जनता तय करेगी प्रसपा का भविष्य

- in Meerut
63
0

 

मोदीपुरम(मेरठ)

मौ० रविश

शिवपाल यादव ने उपेक्षा का आरोप लगा अखिलेश यादव से अलग राह पकड़ी और नई पार्टी का निर्माण कर डाला। पहले तो उन्होंने सेक्युलर मोर्चे के बैनर तले अलग चलने की घोषणा की उसके बाद चुनाव आयोग ने उनकी पार्टी को प्रगतिशील समाजवादी पार्टी नाम से मान्यता देकर शिवपाल की राह आसान कर दी। शिवपाल यादव ने बहुत कम समय मे प्रदेश के लगभग सभी जिलों में संगठन खड़ा कर सपा के लिये चुनौती का ऐलान कर डाला। 9 दिसंबर को लखनऊ के रमाबाई मैदान में नवनिर्मित प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (लोहिया) की पहली बड़ी रैली होने जा रही है। प्रत्येक ज़िले के ज़िलाध्यक्षो सहित सभी बड़े पदाधिकारियों को कार्यक्रम में बड़ी संख्या में भीड़ लाने की ज़िम्मेदारी सौंपी गई है। रैली की सफलता पार्टी में नया जोश व दम भरने में सहायक होगी वही रैली की असफलता कार्यकर्ताओ के उत्साह को ज़मीन पर पटक सकती है। ध्यान रहे कि सपा की तरफ से प्रसपा पर भाजपा से सांठगांठ के आरोप लग चुके है। प्रसपा निर्माता शिवपाल यादव को लखनऊ में भाजपा सरकार द्वारा बड़ा बंगला देने से इन आरोपो को बल मिला है। वही प्रगतिशील सपा के नेताओं ने इन आरोपों को नकारते हुए भाजपा सरकार की नीतियों की जमकर आलोचना कर खुद को सेक्युलर साबित करने में कोई कोर कसर नही छोड़ी है। 9 दिसंबर की रैली को सफल बनाने के लिये सभी स्तरों पर कार्यकर्ता जुटे हुए है। भीड़ जुटाने में उन्हें कितनी सफलता मिलेगी ये तो वक़्त ही बतायेगा, मगर रैली की कामयाबी सपा सहित कई अन्य दलों की मुश्किलें बढ़ा सकती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

शशिकांत दास बने रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के नए गवर्नर

डॉ रणवीर सिंह वर्मा उर्जित पटेल के इस्तीफे