उत्तरकाशी : कोविड -19 का होटल इंडस्ट्री पर बड़ा असर,कारोबार खत्म होने के एवज में चार धाम होटल एसोसिएशन ने रिलैक्सेशन के साथ भरपाई की ,कि मांग

उत्तरकाशी : कोविड -19 का होटल इंडस्ट्री पर बड़ा असर,कारोबार खत्म होने के एवज में चार धाम होटल एसोसिएशन ने रिलैक्सेशन के साथ भरपाई की ,कि मांग

- in article, states, Uttarakhand, Uttarkashi
197
0
@admin
  • संतोष साह

कोविड-19 संकट और लॉक डाउन के चलते होटल इंडस्ट्री पर इसका बड़ा असर पड़ा है। होटल व्यवसाय खत्म होने के साथ ही बेरोजगारी की समस्या भी पैदा हो गई है। होटल के अलावा रेस्तरां भी इसकी मार झेल रहे हैं क्यूंकि इनका व्यवसाय भी चौपट हो गया है।

उत्तराखंड के चारधाम यात्रा रूट से लगे सभी होटल्स जो कि सीजनल आधारित हैं लॉक डाउन व यात्रा बंद होने से इनकी एक तरह से कमर ही टूट गई है। इस बीच होटल कारोबार बंद है मगर लायबिलिटी इनके सामने खड़ी है लिहाजा संकट की इस घड़ी में जब कारोबार बंद है तो होटल व्यवसायी की भी रिलैक्सेशन की मांग जायज है।

चारधाम होटल एसोसिएशन के कॉर्डिनेटर अजय पुरी का कहना है कि होटल इंडस्ट्री बंद होने से इससे जुड़े लोगों के समक्ष संकट खड़ा हो गया है। होटल बंद हैं मगर देनदारियां सामने हैं। उन्होंने संकट के इस दौर में होटल कारोबारियों को जीरो इंटरेस्ट पर ऋण देने ,टूरिज़्म इंडस्ट्री पालिसी पर सब्सिडी देने के साथ ही लाइसेंस की वैलिडिटी मार्च 2021 तक बढ़ाने की सरकार से मांग की है। उन्होंने करंट फाइनेंसियल ईयर को जीरो बिज़नेस ईयर करने की भी बात कही।

पुरी ने होटल बंद होने की स्थिति में हाउस टैक्स,सीवेज टैक्स ,बिजलीं व पानी मे भी बहुत कम चार्ज व छूट देने की मांग की। इसके अलावा उन्होंने गाइड लाइन में भी होटल इंडस्ट्री व पर्यटन को कुछ शर्तों पर छूट देने की भी मांग की। इसके अलावा होटल उद्योग में लॉक डाउन के चलते पड़े प्रतिक़ूल प्रभाव को लेकर कहा कि होटल व्यवसाय को दुबारा पटरी में आने में करीब 6 से 12 माह लगना निश्चित है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

उत्तरकाशी : खेडमी के ग्राम प्रधान व समाज सेवी सुरेन्द्र सिंह को कोरोना वारियर्स का मिला सम्मान

संतोष साह इलेक्ट्रॉनिक एंड प्रिंट मीडिया वेलफेयर एसोसिएशन