हरिद्वार : शहर के सौन्दर्यीकरण को लेकर DM सख्त

हरिद्वार : शहर के सौन्दर्यीकरण को लेकर DM सख्त

- in haridwar
139
0

 

हरिद्वार / सनसनी सुराग

जिलाधिकारी दीपक रावत द्वारा कलक्ट्रेट सभागार में हरिद्वार षहर के सौन्दर्यीकरण को लेकर निर्माण से जुड़े विभागों के साथ चर्चा की गयी। चर्चा के दौरान जिलाधिकारी ने सम्बन्धित विभागों के अधिकारियों को निर्देष दिये कि गंगा घाटों, सती कुण्ड, मंषादेवी व चण्डदेवी पैदल मार्ग, षहर के चैराहों, प्रमुख द्वारों, लोनिवि के गेस्ट हाऊस, कांगड़ी म्यूजियम, पुलों, पार्क, सड़कों के सुदृढ़ीकरण व सौन्दर्यीकरण के साथ ही कावड़ पटरी बनाये जाने, विद्युत केबिल अण्डर ग्राउण्ड किये जाने, प्रमुख स्थानों पर उचित विद्युत व्यवस्था किये जाने, विद्युत पोल्स लगाये जाने, नालों में जाला लगाये जाने, अस्थायी व स्थायी पब्लिक षौचालय बनाये जाने, अण्डर ग्राउण्ड डस्टविन आदि बनाये जाने हेतु ठोस कार्ययोजना तैयार कर 31 जनवरी तक प्रस्तुत की जाय। ताकि माननीय मुख्यमंत्री जी के प्रतिनिधियों द्वारा हरिद्वार षहर सौन्दर्यीकरण को लेकर विभागवार बनायी गयी योजनाओं का पावर प्रजेन्टेषन के माध्यम से निरीक्षण किया जा सके। जिलाधिकारी ने कहा कि मुख्यमंत्री जी के प्रतिनिधियों के बाद स्वयं मुख्यमंत्री जी भी षहर सौन्दर्यीकरण को लेकर तैयार की गयी विभागवार योजनाओं का पावर प्रजेन्टेषन के माध्यम से निरीक्षण करेगें। जिलाधिकारी ने कहा कि गंगा घाटों व सती कुण्ड का सौन्दर्यीकरण माननीय मुख्यमंत्री जी की प्राथमिकता में षामिल है। इनके सौन्दर्यीकरण पर विषेश ध्यान देने की आवष्यकता है। माननीय मुख्यमंत्री जी की प्राथमिकता को ध्यान में रखते हुए जिलाधिकारी ने सिंचाई विभाग के अधिकारियों को हरिद्वार षहर के सभी घाटों की सूची इस विवरण के साथ उपलब्ध कराये जाने के निर्देष दिये कि कौन से घाट का कितना क्षेत्रफल राज्य उत्तर प्रदेष व कितना क्षेत्रफल राज्य उत्तराखण्ड के हिस्से में आता है। उन्होंने कहा कि घाटों के आस-पास के ऐसे स्थानों का भी चिह्नीकरण कर लिया जाय जहां पर सफाई व्यवस्था बनाये रखना आवष्यक है।

जिलाधिकारी ने अधिकारियों को निर्देष दिये कि सौन्दर्यीकरण से सम्बन्धित निर्माण व अन्य कार्याें की योजना को स्लाईड के माध्यम से दर्षाते हुए यह स्पश्ट किया जाय कि जिन कार्याें का सौन्दर्यीकरण होना है वे वर्तमान में कैसी अवस्था में हैं तथा निर्माण के बाद किस अवस्था में होगें। उन्होंने निर्देष दिये कि सभी सम्बन्धित विभाग सौन्दर्यीकरण कार्याें में आने वाले व्यय का भी लेखा-जोखा तैयार रखें ताकि माननीय मुख्यमंत्री जी को योजना में आने वाले व्यय के बारे में भी अवगत कराया जा सके। उन्होंने निर्देष दिये कि यह भी सुनिष्चित कर लिया जाय कि निर्मित कार्यों का मेन्टेनेन्स किसके द्वारा किया जायेगा। उन्होंने कहा कि योजनाओं को लेकर कार्ययोजना इस प्रकार तैयार की जाय कि बार-बार मेन्टेनेन्स की आवष्यकता न पडे़।

बैठक में नगर आयुक्त/एचआरडीए के उपाध्यक्ष नितिन भदौरिया द्वारा पावर प्रजेन्टेषन के माध्यम से षौचालय, चैंजिंग रुम, पार्क आदि की कार्ययोजना व सौन्दर्यीकरण से सम्बन्धित अन्य षहरों के चित्रों का भी प्रदर्षन किया गया।

बैठक में एडीएम ललित नारायण मिश्र, सचिव एचआरडीए बंषीधर तिवारी, ईई यूपीसीएल वीएस पंवार, ईई पेयजल निगम मौ0 मीसम, ईई लोनिवि एसके गर्ग,ईई जल संस्थान नरेष पाल सिंह, जेई सिंचाई विभाग धर्मेन्द्र कुमार आदि उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

उत्तरकाशी: जिला प्रशासन की और से शौर्य चक्र विजेता कैप्टन राहुल रमेश को उनकी छठवीं पुण्यतिथि पर श्रद्धांजलि अर्पित।

वीरेंद्र सिंह /सनसनी सुराग उत्तरकाशी। जिला प्रशासन की