हरिद्वार : 450 वृद्ध दिव्यांगों को बांटे जीवन सहायक उपकरण

हरिद्वार : 450 वृद्ध दिव्यांगों को बांटे जीवन सहायक उपकरण

- in haridwar
24
0

 

हरिद्वार / सनसनी सुराग
प्रदेश के माननीय मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत एवं सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता केन्द्रीय मंत्री थावर चंद गहलोत ने ऋषिकुल मैदान में आयोजित कार्यक्रम में भारत सरकार के सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय की केंद्र सरकार की‘‘वयोश्री’’ योजना के अन्तर्गत हरिद्वार क्षेत्र के 450 वृद्ध दिव्यांगों को जीवन सहायक उपकरण वितरित किये।

इस अवसर पर माननीय मुख्यमंत्री रावत ने कहा कि माननीय प्रधानमंत्री जी का स्पष्ट निर्देश है कि सरकार उन लोगों के लिए होती हैं जो आर्थिक और सामाजिक रुप से पिछड़े हैं। भारत का संविधान दिव्यांग और आर्थिक रुप से पिछड़े लोगों को प्राथमिकता देता है। उन्होंने प्रधानमंत्री मामननीय मोदी तथा गहलौत का आभार जताया कि केंद्र की हर योजना में उत्तराखण्ड को विशेष रूप से शामिल करते हुए प्रदेश के लिए प्रयास किये जा रहे हैं। इन चार वर्षाें में 50 गुना अधिक शिविरों का आयोजन कर पात्रों को लाभान्वित किया गया है। रावत ने कहा कि यह सुनिश्चित किया जायेगा आगामी किसी भी केंद्रीय योजना कार्यक्रम में लाभार्थियो की संख्या शत प्रतिशत हो।

मुख्यमंत्री रावत ने जिला प्रशासन को दिव्यांगों के प्रति गम्भीर रहकर कार्य करने के निर्देश दिये। उन्होंनें कहा कि जब हमारा लक्ष्य है कि योजना का लाभ प्रत्येक पात्र तक पहुंचे। तभी सरकार की जवादेही स्पष्ट होती है। रावत ने जनता से कहा कि यदि कोई भी नागरिक किसी भी सरकारी योजना के लाभ से वंचित है, समय पर सुनवाई नहीं हो रही है या कोई भी लापरवाही बरतता है तो उसकी शिकायत सीधे मुख्यमंत्री से टोल फ्री नम्बर 1906 पर करें। आपकी व्यक्तिगत समस्याओं का समाधान 24 घण्टे के भीतर हो ये सुनिश्चित किया जायेगा।

केन्द्रीय मंत्री गहलौत ने कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए कहा कि नरेन्द्र मोदी की नेतृत्व वाली सरकार में 100 से अधिक योजनाएं बनी जिनके माध्यम से लोगों को लाभान्वित करने का कार्य किया गया। वृद्ध दिव्यांगों की पीड़ा की अनुभूति करते हुए मोदी ने वृद्ध दिव्यांगों के सशक्तिकरण के लिए ऐतिहासिक प्रयास किये गये हैं। उन्होंने कहा कि हमारी संस्कृति वृद्धजनों एवं दीन-दःुखियों की सेवा करने वाली रही है, बुजुर्ग सदैव हमारे पूजनीय रहे हैं, ऐसी अवस्था में उन्हें लाचार नहीं छोड़ा जा सकता। इससेे प्रेरित भारत सरकार सम्पूर्ण देश में वृ़द्धजनों एवं दीन-दुःखियों की सेवा करने की सोच विकसित करने का कार्य रही है। मंत्रालय द्वारा दिव्यांगों को वृद्धजनों की तरह व्हील चेयर, ट्राईसाईकिल, बैसाखी, सुनने की मशीन, चश्मा, बत्तीसी, व्हील चेयर आदि एवं पढ़ने वाले बच्चों को लेपटाॅप, स्मार्टफोन आदि वितरित किये जा रहे हैं। प्रत्येक पात्र व्यक्ति को साढें सात हजार रूपये तक की सामग्री देने का निर्णय लिया गया है। श्री गहलौत ने कहा इन चार वर्षाें में देशभर में 11 लाख दिव्यांगों को रुपये 600 करोड़ से ज्यादा की सामग्री वितरित की गयी है और इस हेतु सात हजार कैम्प आयोजित किये गये हैं। वृद्ध जनों की ‘‘वयोश्री’’योजना पिछले वर्ष प्रारम्भ की गयी जिसमें देश के 260 जनपदों का चयन किया गया। इन 260 जिलों में हरिद्वार जिला भी शामिल है। वयोश्री योजना के अन्तर्गत अभी तक 43 हजार वृद्धजनों को उनकी आवश्यकतानुसार उपकरण उपलब्ध कराये गये हंै। 80 प्रतिशत से ज्यादा दिव्यांगों को मोटराईज ट्राईसिकल दी जा रही है। अभी साढे पांच हजार पात्र लोगों को मोटराईज ट्राईसिकल दी गयी है।

छोटे-छोटे ऐसे बच्चे जो बोल नहीं सकते सुन नहीं सकते ऐसे उनकों रुपये छः लाख प्रति बच्चे को अनुदान देकर आॅपरेशन के माध्यम उपचार करवाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि कार्य पारदर्शिता से किये जा रहे हैं ऐसे 12 बच्चों का आॅपरेशन करवाया गया है। अभी तक ऐसी कोई शिकायत नहीं मिली है कि पात्रों को खराब उपकरण वितरित किये, लेकिन फिर भी देशभर से लाभार्थियों को उपकरणों की गुवत्ता में शिकायत पाये जाने पर सुझाव आमंत्रित किये गये हैं।

गहलौत ने कहा कि वह पुनः एक कैम्प हरिद्वार में आयोजित करेंगे, जिसका मार्गदर्शन स्थानीय संासद, विधायक, विभागयी मंत्री व जिलाधिकारी स्वंय करेंगे। जिससे जनपद के पात्र लोगों को अधिक लाभान्वित किया जा सके। गहलौत ने अधिकारियो को केन्द्र सरकार की सभी योजनाओं का गम्भीरता से अध्ययन कर पात्रों को लाभ पहुंचाने के बात कही। कार्यक्रम की शुरूआत जिलाधिकारी दीपक रावत के स्वागत भाषण हुई।

इस अवसर पर हरिद्वार सांसद रमेश पोखरियाल निशंक, कैबीनेट मंत्री यशपाल आर्य, कैबीनेट मंत्री मदन कौशिक, विधायक देशराज कर्णवाल, सुरेश राठौर, यतीश्वरानंद, आदेश चैहान, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक श्री कृष्ण कुमार वीके, अपर जिलाधिकारी वित्त ललित नारयण मिश्र, जिला समाज कल्याण अधिकारी दीपराज अग्निहोत्री, जिला विकास अधिकारी पुष्पेंद्र चैहान, जिला पंचायती राज अधिकारी रमेश त्रिपाठी सहित अनेक अधिकारी उपस्थित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

उत्तरकाशी: बडकोट वन विभाग के गेस्ट हाउस के नजदीक जंगल में मिला युवक का शव।

वीरेंद्र सिंह /सनसनी सुराग -ख़बर बड़कोट से है