उत्तरकाशी : गढ़वाली कविता कोष को हुए दो वर्ष पूरे,कई हजार रचनाएं इसमे शामिल

उत्तरकाशी : गढ़वाली कविता कोष को हुए दो वर्ष पूरे,कई हजार रचनाएं इसमे शामिल

- in article, states, Uttarakhand, Uttarkashi
558
0
@admin
  • संतोष साह

इंटरनेट पर भारतीय साहित्य के एकमात्र विशालतम संग्रह कविता कोष के गढ़वाली विभाग को आज दो वर्ष पूर्ण हो गए हैं। गढ़वाली कविता कोष गढ़वाल की संस्कृति तथा साहित्य को इंटरनेट पर एक जगह एकत्रित कर पाठकों तक सुलभ बनाने का कार्य कर रहा है। इसमे गढ़वाली के 100 से अधिक वरिष्ठ रचनाकारों से लेकर उभरते रचनाकारों तक की कई हजार रचनाएं शामिल हैं।

शिक्षक डॉ शम्भू प्रसाद नौटियाल ने बताया कि गढ़वाली कविता कोष की स्थापना युवा शायर अभिषेक कुमार अम्बर ने की है। गौरतलब है कि अभिषेक गढ़वाली नहीं है और वह उत्तरप्रदेश के मेरठ जिले के मवाना कस्बे के रहने वाले हैं। यह गढ़वाली साहित्य और संस्कृति के प्रति उनका अगाध प्रेम था जिसकी वजह से उन्होंने गढ़वाली साहित्य के लिये एक कोष बनाने का निर्णय किया। इस कोष के निर्माण में गढ़वाली कवि गीतेश नेगी ने भी उनका सहयोग किया।

यही नही अभिषेक अभी मात्र 19 वर्ष के हैं और दिल्ली यूनिवर्सिटी से ग्रेजुएशन कर रहे हैं। इनकी कई पुस्तकें भी प्रकाशित हो चुकी हैं और इन्हें कई सम्मान भी मिल चुके हैं।
बहरहाल उक्त गढ़वाली कोष का उद्देश्य गढ़वाली साहित्य को संरक्षित करना है।

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

उत्तरकाशी : नवरात्रि में दुर्गा भवानी का गढ़वाली भजन खूब प्रचारित होने के साथ भक्तों को भा रहा है,गीत व स्वर दिए हैं कैलाश सेमवाल ने

संतोष साह इन दिनों नवरात्र चल रहे हैं।