देहरादून : राज्य में किसी भी स्लॉटर हाऊस को मंजूरी नहीं दी जायेगी : CM

देहरादून : राज्य में किसी भी स्लॉटर हाऊस को मंजूरी नहीं दी जायेगी : CM

- in Dehradun
27
0

 

देहरादून / सनसनी सुराग

राज्य में किसी भी स्लॉटर हाऊस को मंजूरी नहीं दी जायेगी
पशुपालन किसानों की आजीविका का मजबूत आधार : मुख्यमंत्री

गौ सदन बनाकर आवारा विचरण कर रहे गोवंशों को रहने की व्यवस्था की जायेगी : मुख्यमंत्री

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत की उपस्थिति में शनिवार को मोथरोवाला में राष्ट्रीय गोकुल मिशन योजनान्तर्गत लिंग वर्गीकृत वीर्य (सेक्स सार्टेड सीमन) उत्पादन हेतु उत्तराखण्ड लाईव स्टॉक डेवलपमेंट बोर्ड एवं इग्नुरान साँर्टिंग टैक्नोलाँजी एलएलपी के मध्य अनुबन्ध हस्ताक्षर किया गया।

अनुबन्ध पर उत्तराखण्ड लाईव स्टॉक डेवलपमेंट बोर्ड से डॉ. एम.एस.नयाल एवं इग्नुरान साँर्टिंग टैक्नोलाँजी एलएलपी से डॉ.प्रकाश क्लेरिकल ने हस्ताक्षर किये।

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने कहा कि ऋषिकेश में स्थापित की जा रही सेक्स सार्टेड सीमन प्रयोगशाला देश की प्रथम प्रयोगशाला है। इस प्रयोगशाला की स्थापना से पशुओं के जीवन में परिवर्तन आयेगा साथ ही पशुपालकों की आय में भी सुधार होगा। पशुपालन किसानों की आजीविका का मजबूत आधार बन सकता है। मुख्यमंत्री ने कहा कि इससे पूर्व में जब राज्य में भाजपा सरकार थी, उस समय हम प्रदेश में गोवंश संरक्षण अधिनियम लाये थे। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार का प्रयास है 2021 से पूर्व ऐसी व्यवस्था कर ली जाए, जिससे हमारे गोवंश सड़कों पर आवारा न घूमें बल्कि किसानों की आजीविका में भागीदार बनें। कुंभ से पूर्व गौ सदन बनाकर आवारा विचरण कर रहे गोवंशों को रहने की व्यवस्था की जायेगी।

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि राज्य में किसी भी स्लॉटर हाऊस को मंजूरी नहीं दी जायेगी। उन्होंने कहा कि 2016 में मंगलौर में स्लॉटर हाउस की अनुमति दी गई थी। जिलाधिकारी हरिद्वार को इस आदेश को निरस्त करने के निर्देश दिये गये हैं। सीएम ने कहा कि राज्य में किसी को भी इस प्रकार के लाइसेंस नहीं दिये जायेंगे। जिनके पास पहले से लाईसेंस हैं, वे भी निरस्त किये जायेंगे। उन्होंने कहा कि राज्य में गोवंश के संरक्षण के लिए देहरादून, हरिद्वार व उधमसिंह नगर में स्पेशल स्कॉड बनाये गये हैं। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने पशुपालन विभाग की ‘‘सुरभि कामधुक्’’ पुस्तक का विमोचन किया तथा उन्नतशील किसानों को सम्मानित भी किया।
पशुपालन, मत्स्य बाल विकास राज्य मंत्री रेखा आर्य ने कहा कि सेक्स सार्टेड सीमन प्रयोगशाला की शुरूआत जल्द ही की जायेगी। ऋषिकेश के श्यामपुर स्थित अतिहिमीकृत वीर्य उत्पादन केन्द्र में इस प्रयोगशाला को बनाया जायेगा। ऋषिकेश के श्यामपुर स्थित अतिहिमीकृत वीर्य उत्पादन केन्द्र से 15 राज्यों को सीमन सप्लाई किया जाता है। सेक्स सोर्टेड सीमन के बारे में किसानों को अधिक से अधिक जानकारी देना जरूरी है। किसानों की पशुपालन से आय बढ़ाने के लिए यह प्रयोगशाला कारगर साबित होगी।

क्या है परियोजना : ’’भारत सरकार द्वारा नेशनल मिशन ऑन बोवाईन प्रोडक्टिवीटी के अंतर्गत परियोजना लाई गई है। इस परियोजना का मुख्य उद्देश्य नर पशुओं की संख्या नियंत्रित कर मादा पशुओं की संख्या में वृद्धि करना है ताकि दुग्ध उत्पादन बढ़ाया जा सके और देशी उच्च नस्ल के पशुओं का संरक्षण व संवर्धन किया जा सके। परियोजना में भारत सरकार द्वारा देश के 10 अग्रणी हिमीकृत वीर्य उत्पादन संस्थानों का चयन किया गया। जिसमें अतिहिमीकृत वीर्य उत्पादन केंद्र, श्यामपुर ऋषिकेश भी शामिल था। इस परियोजना में प्रस्ताव तैयार कर केंद्र सरकार को भेजने वाला उत्तराखण्ड प्रथम राज्य बना। केंद्र सरकार ने राज्य सरकार के प्रस्ताव को उपयुक्त बताते हुए अपनी स्वीकृति दी। वर्तमान में उतराखण्ड ही एकमात्र राज्य है जिसको इस परियोजना की स्वीकृति मिली है। परियोजना का मुख्य उद्देश्य देशी पशुओं के लिंग वर्गीकृत वीर्य का उत्पादन कर उसको गाय व भैंसों में कृत्रिम गर्भाधान का उपयोग कर अधिक से अधिक मादा पशुओं को पैदा करना है, जिससे नर पशुओं की संख्या नियंत्रित किया जा सके व दुग्ध उत्पादन में वृद्धि हो सके। परियोजना की कुल लागत 47 करोड़ 50 लाख रूपए है जो 05 वर्षों के लिए संचालित की जानी है। इस परियोजना में 90 प्रतिशत केंद्रांश है जबकि 10 प्रतिशत राज्यांश है। इस परियोजना के पहले वर्ष में 2 लाख जबकि दूसरे, तीसरे, चौथे व पांचवे वर्ष में 3-3 लाख सैक्स सीमन डोज का उत्पादन किया जाएगा।
इस परियोजना के अंतर्गत उत्तराखण्ड लाईवस्टाक डेवलपमेंट बोर्ड द्वारा संयुक्त राज्य अमेरिका की कम्पनी इन्गुरान एल.एल.सी. सेक्सिंग टेक्नोलॉजी से अनुबंध किया जा रहा है। यह कम्पनी विश्व की एकमात्र ऐसी कम्पनी है जिसको सेक्स सोर्टिंग ऑफ सीमन के काम में तकनीकी दक्षता हासिल है। इस विधि के द्वारा ‘एक्स’ व ‘वाई’ गुणसूत्र युक्त शुक्राणुओं को मशीन द्वारा अलग-अलग करके वीर्य स्ट्रा में पैक कर दिया जाता है। यदि मादा संतति की आवश्यकता है तो ‘एक्स’ क्रोमोसोम वाले वीर्य स्ट्रा का कृत्रिम गर्भाधान हेतु उपयोग करके मादा संतति की प्राप्ति की जा सकती है।’’

इस अवसर पर सहकारिता एवं उच्च शिक्षा राज्य मंत्री डॉ.धन सिंह रावत, विधायक विनोद चमोली, सचिव पशुपालन आर.मीनाक्षी सुन्दरम्, निदेशक पशुपालन डॉ.के.के.जोशी आदि उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

उत्तरकाशी: जिला प्रशासन की और से शौर्य चक्र विजेता कैप्टन राहुल रमेश को उनकी छठवीं पुण्यतिथि पर श्रद्धांजलि अर्पित।

वीरेंद्र सिंह /सनसनी सुराग उत्तरकाशी। जिला प्रशासन की