अपने आने वाली पीढ़ी को प्यासा न रखे : जल दिवस पर विशेष

अपने आने वाली पीढ़ी को प्यासा न रखे : जल दिवस पर विशेष

- in Other Updates
96
0

 

सुरेन्द्र अवस्थी
सनसनी सुराग न्यूज/देहरादून

आज विश्व जल दिवस मनाया जा रहा है। पर वो दिन भी दूर नही जब पानी के लिए ही थर्ड वर्ल्ड वॉर होगी। हमारी पृथ्वी पर भले ही 70 से 75 प्रतिशत पानी है पर उसमे पीने लायक बस 1 से 2 प्रतिशत है। एक आंकड़े के अनुसार दुनिया 100 करोड़ लोगों को शुद्ध पीने का पानी नही मिल रहा है। केप टाउन की स्थिति आप देख ही चुके हो।अगर यह स्थिति रही तो हमारी आने वाली पीढ़ी शुद्ध पीने के पानी को तरस जाएगी। इस स्थिति मे जल संरक्षण बहुत जरूरी हो गया है। आज जो भी अंतरास्ट्रीय समेलन होते हैं। उनकी मुख्य थीम जल संरक्षण ही है। आज ये परिस्थिति आ चुकी है कि कुछ साल पहले तक दुनिया का सबसे अधिक वर्षा वाला स्थान रहा चेहरापूंजी मे भी आज पीने के पानी की किल्लत हो रही है। क्योंकि पेड़ो के कटान से वहा पानी को रोकना मुश्किल हो गया है। अतः जल के लिये हमें पेड़ो को लगना आवश्यक है। जिनमे प्रमुख बांझ के पेड है । जो भूस्खलन को रोकने मे कारागार साबित होते है।

जल संरक्षण के लिए उत्तराखंड के दूधातोली छेत्र मे सचितनन्द सिंह द्वारा बनाये गये चलो से बंजर पड़ी भूमि को सिंचाई के लिए व पीने के लिए पानी मुहैया कराया जा रहा है। तो आज जल दिवस पर हम संकल्प लें कि जल को को व्यर्थ मे बर्बाद न करें ओर हमारी जिम्मेदारी है कि अपनी आनी वाली पीढ़ी के लिए ही जल बचाये।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

भाजपा नेता ने की ई० ओ० से अभद्रता, आक्रोशित कर्मचारियों ने की अनिश्चिकालीन हड़ताल

  लावड़/मेरठ मौ० रविश कल कुछ भाजपा नेता