अल्मोड़ा :उदय शंकर नाट्य अकादमी में लगी फोटो प्रदर्शनी

अल्मोड़ा :उदय शंकर नाट्य अकादमी में लगी फोटो प्रदर्शनी

- in Almora
104
0

 

सनसनी सुराग / अल्मोड़ा

आधुनिक नृत्य सम्राट के नाम से विश्व विख्यात पं0 उदय शंकर की स्मृति में बनााये गये उदय शंकर नाट्य अकादमी फलसीमा को आम जनता के लिए उपयोगी बनाने के लिए जिला प्रशासन व संस्कृति विभाग के सहयोग से वहाॅ पर फोटो गैलरी लगायी गयी है यह बात अपर जिलाधिकारी कैलाश टोलिया ने आज वहा पर लगायी गयी फोटो प्रदर्शनी का उद्घाटन करते हुए कही। उन्होंने कहा कि जिलाधिकारी इवा आशीष की पहल पर इटेंक संस्था द्वारा यहा पर फोटो प्रदर्शनी लगायी गयी है जो बाहर से आने वाले देशी-विदेशी पर्यटको के लिए आकर्षण का केन्द्र बनेगी। उन्होंने कहा कि अल्मोड़ा बहुत प्राचीन शहर है यहा की संस्कृति की पहचान देश ही नहीं अपितु विदेशों में अपना स्थान रखती हैं। यहा पर जो प्रदर्शनी लगायी गयी है उसमें जर्मनी, ब्रिटिश लाईबे्ररी, राष्ट्रीय अभिलेखागार, राज्य अभिलेखागार व क्षेत्रीय पुरातत्व इकाई से भी फोटो प्राप्त कर यहा पर प्रदर्शनी लगायी गयी है। अपर जिलाधिकारी ने कहा कि भविष्य में यहा के स्थानीय लोगो से भी अल्मोड़ा के पुराने चित्रों को लिया जायेगा उनसे अपील की जायेगी कि उनके पास जो भी पुराने चित्र है उन्हें वे यदि जिला प्रशासन को देना चाहते है तो उनके नाम से नाटय अकादमी में गैलरी की स्थापना की जायेगी।

इटेंक संस्था (इण्डियन नेशनल ट्रस्ट फार आर्ट एण्ड कल्चरल हैरिटेज) के उत्तराखण्ड प्रभारी लोकेश ओहरी ने बताया कि वर्ष 1860 में अल्मोड़ा में कैमरा आया था उसके बाद के जो भी चित्र खीचे गये है उन चित्रों को इस गैलरी में लगाने का प्रयास किया गया है। उन्होंने बताया कि सन 1938 में पं0 उदय शंकर अपने साथियों पं0 रवि शंकर, गुरूदास पत्नी अमला शंकर, जौहरा सेंगर, एना पाबलोवा सहित अन्य लोगो के साथ यहा पर आये थे उन्होंने अल्मोड़ा में अपने नृत्य की जो अमिट छाप छोडी वह विश्व विख्यात रही। इसके अलावा अल्मोड़ा में राष्ट्रपिता महात्मा गाॅधी, पं0 जवाहर लाल नेहरू, स्वामी विवेकानन्द, रोबिल रौल सहित अन्य लोग आये जिन्होंने अल्मोड़ा की इस सांस्कृतिक नगरी में अपनी अलग पहचान बनायी उनके चित्रों को भी इस फोटो गैलरी में लगाने का प्रयास किया गया है। लोकेश ओहरी ने बताया कि अल्मोड़ा में अनेक हैरिटेज भवन है उनको भी इस फोटो गैलरी में लगाने का प्रयास किया गया है। उन्होंने आम जनता से अपील कि जिनके पुराने भवन है यदि वे अपने भवनो का जीणोद्वार कर रहे है पुरानी धरोहर को नष्ट न करते हुए इसे चिर स्थायी रखने के लिए संग्रहालय को उसे भेंट कर दें ताकि यहाॅ की पुरानी कला संस्कृति को बचाये रखा जा सके। संस्था के उत्तराखण्ड प्रभारी ने कहा कि जब इसमें स्थानीय लोगो के सहयोग से फोटो गैलरी लगयी जायेगी तब उसे आम जनता के लिए खोलने का प्रयास किया जायेगा इसके लिए जिला प्रशासन व संस्कृति विभाग एक ठोस कार्य योजना बनाकर निणर्य लेगा।

इस अवसर पर प्रभारी क्षेत्रीय पुरातत्व इकाई के चन्द्र सिंह चैहान, अल्मोड़ा हैरिटेज संस्था की तनीशा तिवारी, सरगम सहित इंटेक संस्था के अनेक सदस्य उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

मेरठ — सांसद ने किया दौड़ प्रतियोगिता का उदघाटन

  दौराला/मेरठ मौ० रविश कल सुबह क़स्बा स्थित