अल्मोड़ा : DM ने दिए आपदा से निपटने के लिये सभी तैयारियाॅ समय से पूर्ण करने के निर्देश

अल्मोड़ा : DM ने दिए आपदा से निपटने के लिये सभी तैयारियाॅ समय से पूर्ण करने के निर्देश

- in Almora
27
0

2 मई, 2018

अल्मोड़ा / सनसनी सुराग

मानसून काल को दृष्टिगत रखते हुये आपदा से निपटने के लिये सभी तैयारियाॅ समय से पूर्ण कर ली जाय। यह निर्देश अध्यक्ष जिला आपदा प्रबन्धन प्राधिकरण/जिलाधिकारी इवा आशीष ने आज जिला कार्यालय में आयोजित एक महत्वपूर्ण बैठक में दिये। उन्होंने कहा कि आपदा के निपटने के लिये जनपद में 03 सैटालाईट फोन स्थापित किये जायेंगे जिनमें से एक जिला मुख्यालय में और एक भिकियासैण में तथा एक चैखुटिया में स्थापित किये जायेंगे। जिलाधिकारी ने सभी उपजिलाधिकारियों को निर्देश दिये कि उनके क्षेत्र में जितने भी प्राथमिक व माध्यमिक विद्यालय आपदा की दृष्टि से संवेदनशील है उनका चिन्हिकरण कर आपदा के तहत उनका प्रस्ताव आपदा प्रबन्धन कार्यालय को भेजवाना सुनिश्चित किया जाय ताकि उनकी मरम्मत की जा सके।

इस बैठक में महाप्रबन्धक दूर संचार व मुख्य शिक्षा अधिकारी के अनुपस्थित रहने पर जिलाधिकारी ने नाराजगी व्यक्त की और कहा कि आपदा अधिनियम के तहत इन महत्वपूर्ण बैठकों में अनिवार्य होता है इसलिये सम्बन्धित अधिकारियों से बैठक में उपस्थित न रहने का औचित्य स्पष्ट करने को पत्र भेजा जाय। उन्होंने जिला पंचायत राज अधिकारी को निर्देश दिये कि जनपद में जितने भी पंचायत घर क्रियाशील है उनकी सूची तुरन्त आपदा प्रबन्धन विभाग को उपलब्ध करायी जाय ताकि आपदा के समय उनका उपयोग किया जा सके। जिलाधिकारी ने सभी आपदा से जुडे विभागों को निर्देश दिये कि वे पूर्ण मुस्तैदी के साथ कार्य करेंगे, इन कार्याें में लापरवाही किसी भी स्तर पर बर्दाश्त नही की जायेगी।

जिलाधिकारी ने लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिये कि आपदा के कार्याें के संचालन हेतु एक नोडल अधिकारी नामित किया जाय। उन्होंने अधिशासी अभियन्ता निर्माण खण्ड लो0नि0वि0 को इन कार्यों हेतु नोडल अधिकारी नामित किया साथ ही उन्होंने सभी अधिशासी अभियन्ताओं को निर्देश दिये कि मोटर मार्गों को खोलने हेतु जे0सी0बी0, डोजर आदि की व्यवस्था समय से कर ली जाय तथा इस हेतु अल्प अवधि की निविदा भी 20 मई से पूर्व प्रकाशित करवा ली जाय। जनपद में जहां पर भी सड़कों में कलमठों व नालियांे ंको खोला जाना आवश्यक है उसे खोलने की व्यवस्था कर ली जाय। इसके अलावा उन्होंने कहा कि दुर्घटना सम्भावित क्षेत्रों की सूची अद्यतन रखी जाय तथा ऐसे मार्गों का विवरण तैयार रखा जाना होगा जो बन्द हो सकते है उसके वैकल्पिक मार्ग का चयन भी करना होगा। जनपद में हैलीपैडो की सूची तहसीलवार अद्यतन रखी जाय।

इस अवसर पर जिलाधिकारी ने वन विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिये कि उनके अधीन जितने भी वन विश्राम गृह है उनकी आवश्यक मरम्मत कर उसकी सूची उपलब्ध करायी जाय और सूचनाआंे के आदान-प्रदान हेतु जो वायरलैस सैट उनके पास है उन्हें ठीक करा लिया जाय। पुलिस विभाग को निर्देश दिये कि जितने भी वायरलैस सैट तहसीलों व थानों मंे है उनकी जाॅच कर ली जाय तथा पुलिस, एसडीआरएफ के कर्मचारी आपस में समन्वय से वार्ता करेंगे। जल संस्थान व जल निगम के अधिकारियों को निर्देश दिये कि जो भी पेयजल लाइनें वर्तमान में क्षतिग्रस्त है उन्हें ठीक करा लिया जाय तथा आपदा के समय जिनकी क्षतिग्रस्त होने की सम्भावना है उसके लिये लोक निर्माण विभाग व प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना से जुडे अधिकारियों के साथ समन्वय स्थापित कर उनको ठीक करने की कार्यवाही समय से हो सके इस पर भी विचार विर्मश कर लिया जाय।

जिलाधिकारी ने कहा कि तहसीलों में जो भी आपदा सम्बन्धी टूल किट दिये गये है उनकी जाॅच कर ली जाय ताकि आपदा के समय उनका उपयोग किया जा सके। उन्होंने शीध्र ही एक प्रशिक्षण कार्यक्रम व माॅकड्रील करने के निर्देश दिये। विद्युत विभाग की समीक्षा के दौरान जिलाधिकारी ने कहा कि आपदा के समय विद्युत लाइनों में जिन पेडांे से नुकसान होने की सम्भावना बनी रहती है उनकी लापिंग करा ली जाय। चिकित्सा विभाग की समीक्षा के दौरान जिलाधिकारी ने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों मे दवाईयों की उपलब्धता बनी रहे साथ ही संक्रामण रोगों के बचाव हेतु जल संस्थान के साथ समन्वय स्थापित कर जल स्त्रोतो सहित टैंको में दवाईयों का छिड़काव कराया जाय ताकि संक्रमण रोगों को फैलने से बचाया जा सके। खाद्य विभाग की समीक्षा के दौरान जिलाधिकारी ने सभी खाद्यन गोदामो में 03 माह का खाद्यन उपलब्ध कराने के निर्देश दिये इसके अलावा केरोसिन, डीजल व पेट्रोल की उपलब्धता बनी रहे इस पर पैनी नजर रखने के निर्देश जिला पूर्ति अधिकारी को दिये। आपदा के दौरान फोन एव इंनटर नेट सेवा की निर्वाध गति बनाये रखने हेतु रणनीति बना ली जाय इनकी सेवायें बाधित होने पर वैकल्पिक व्यवस्था के लिये भी चर्चा की जाय।

उन्होंने सभी तहसीलों में एक 01 जून से नियंत्रण कक्ष की स्थापना करने के निर्देश सभी उपजिलाधिकारियों को दिये। आपदा की स्थिति में सूचना दिये जाने हेतु नोडल अधिकारी की तैनाती करने के भी निर्देश जिलाधिकारी ने दिये। इसके अलावा उन्होंने कहा कि आपदा की स्थिति में आश्रय स्थलों हेतु चिन्हित विद्यालयों, पंचायत भवनांे, सामुदायिक भवनों का चिन्हिकरण करने के निर्देश सम्बन्धित अधिकारियों को दिये। आपदा की स्थिति में राहत कार्यों में अधिग्रहण किये जाने हेतु सरकारी वाहनों/टैक्सियों/बसों की सूची तैयार रखने के निर्र्देश सहायक सम्भागीय परिवहन अधिकारी को दिये। जिलाधिकारी ने सभी अधिकारियो से कहा कि वे निरन्तर आपदा कन्ट्रोल रूम में समन्वय बनाये रखेंगे।

बैठक में आपदा प्रबन्धन अधिकारी राकेश जोशी ने शासन से प्राप्त निर्देशों एवं अन्य महत्वपूर्ण बातों की जानकारी आपदा से जुडे अधिकारियों को दी। इस बैठक में वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक पी0 रेणुका देवी, मुख्य विकास अधिकारी मयूर दीक्षित, अपर जिलाधिकारी के0एस0 टोलिया, उपजिलाधिकारी विवेक राय, गौरव चटवाल, प्रशिक्षु मनीष बिष्ट, तहसीलदार पी0डी0 सनवाल, नितेश डांगर सहित आपदा से जुडे अधिकारी उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

उत्तरकाशी: छः बालिका वनों में लगी आग से झुलसी, झुलसी बालिकाओं से मिलने पहुंचे डीएम।

24 मई, 2018 वीरेंद्र सिंह /सनसनी सुराग जिलाधिकारी