अल्मोडा : अपराधों पर नियंत्रण रखने के साथ-साथ लंबित वादों के निस्तारण में तेजी लाने के DM ने दिए निर्देश

अल्मोडा : अपराधों पर नियंत्रण रखने के साथ-साथ लंबित वादों के निस्तारण में तेजी लाने के DM ने दिए निर्देश

- in Almora
45
0

 

अल्मोड़ा / सनसनी सुराग

जनपद में अपराधों पर नियंत्रण रखने के साथ-साथ लंबित वादों के निस्तारण में तेजी लाएं यह निर्देश जिलाधिकारी इवा आशीष श्रीवास्तव ने आज जिला कार्यालय में आयोजित कानून व्यवस्था की बैठक में समस्त उपजिलाधिकारियों, तहसीलदारों व पुलिस विभाग के अधिकारियों को दिये। उन्होंने कहा कि जनपद में चोरी की घटनाएं बढ रहीं है

इसके लिए पुलिस व राजस्व विभाग सख्ती से कार्य करने के साथ-साथ आपस में समन्वय बनाकर चोरी की घटनाओं मेें अंकुश लाएं।

आदतन अपराधियों के विरूद्व गुण्डा एक्ट व गैंगस्टर एक्ट के अन्र्तगत कड़ी कार्रवाही की जाए। उन्होने महिला उत्पीड़न, दहेज हत्या के मामलों के निस्तारण में तेजी लाने के साथ विभिन्न न्यायालयों में लंबित वादों का निस्तारण यथा शीध्र कराने के निर्देश दिये।

जिलाधिकारी ने समस्त उपजिलाधिकारियोें को निर्देश दिये कि दुर्घटनाओं से सम्बन्धित सभी मामलों की मजिस्टेªटी जाॅच में तत्परता लाये। परिवहन व राजस्व विभाग के अधिकारी मजिस्ट्रेटी जाॅच रिर्पोट में दुर्घटनाओं के कारणों का उल्लेख अवश्य करें।े

जिलाधिकारी ने समस्त उपजिलाधिकारियों को निर्देश दिये कि वे अपने भ्रमण के दौरान यह भी सुनिश्चित करेंगे कि आबकारी की दुकानो में यदि रेट लिस्ट चस्पा नहीं है तो आबकारी अधिनियम के अन्तर्गत उनके विरूद्व कठोर कार्यवाही अमल में लायी जाय। इसके अलावा जहाॅ पर विद्यालय आपदा के कारण क्षतिग्रस्त है या क्षतिग्रस्त होने की सम्भावना है ऐसे विद्यालयों की सूची तुरन्त बनाकर भेजी जाय। सहायक सम्भागीय परिवहन अधिकारी परिवहन को निर्देश दिये कि वे प्रत्येक विद्यालयों में जाकर जहाॅ पर बसो का संचालन होता है उसे देखेंगे और जहाॅ नहीं हो रहा है उसकी रिर्पोट देंगे इसके अलावा समय-समय पर मोटर मार्गों का भी निरीक्षण करेंगे।

उन्होंने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिये कि अब सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों व प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों में स्वास्थ्य विभाग की बैठक अनिवार्य रूप से इसमे मुख्य चिकित्साधिकारी स्वयं अथवा अपने प्रतिनिधि को भेजेगे इन बैठको में चिकित्सालयों की सभी व्यवस्थाओ के अलावा वहाॅ पर जीवन रक्षक जो भी उपकरण है यथा एम्बुलेंस आदि उसकी भी रिर्पोट देंगे और उसे ठीक कराना सुनिश्चित करेंगे। विगत दिनो आयुक्त कुमाऊॅ मण्डल द्वारा अपने भ्रमणा के दौरान इन व्यवस्थाओं को व्यवस्थित करने के कड़े निर्देश दिये है। उपजिलाधिकारी अपने भ्रमण के दौरान अपने क्षेत्रो में इस बात का भी ध्यान रखेंगे कि आपदा की दृष्टि से सड़को के किनारे जो पेड़ है उनकी रिर्पोट देंगे ताकि उनका पातन कराया जा सके।

जिलाधिकारी ने जिला मुख्यालय सहित तहसीलो में जो वाहन निष्प्रोज्य है उनकी नीलामी की प्रक्रिया प्रारम्भ कर दी जाय। वन पंचायतो में जहाॅ पर चुनाव हो गये है उसके अलावा जहाॅ अभी तक चुनाव नहीं हुए है वहाॅ पर चुनाव शीघ्र करा दिये जाय।

जिला कार्यालय सहित तहसील कार्यालयो में नई कार्य संस्कृति को बढ़ावा देने के लिए विशेष ध्यान दिया जाना है इसके तहत सभी कर्मचारियो का परिचय पत्र बनाने के साथ ही कार्यालयो में सभी अलमारी के बाहर तत् सम्बन्धी अभिलेखो का विवरण अवश्य हो इसका ध्यान दिया जाना है। उप राजस्व निरीक्षको के चैकियों में एक बोर्ड अवश्य लगाया जाय जिसमे उनका नाम, मोबाइल न0, भ्रमण की स्थिति आदि का उल्लेख अवश्य हो। भ्रमण के दौरान सभी उपजिलाधिकारी आॅगनबाड़ी केन्द्रो का औचक निरीक्षण करेंगे और यह सुनिश्चित करेंगे कि निर्धारित मानको के अनुसार वहाॅ भोजन बन राह है या नही इसका अवश्य उल्लेख करेंगे।

जिलाधिकारी ने 02 वर्ष से अधिक लम्बित वादो के निस्तारण में तेजी लाने के साथ-साथ देयको की वसूली में भी तेजी लायें। इसके अलावा उन्होंने इस बात को सुनिश्चित करने को कहा कि दाखल-खारिज के मामलो का निस्तारण 35 दिन के भीतर अवश्य कर लिया जाय। मुख्यमंत्री कार्यालय से सम्बन्धित सभी मामलो का निस्तारण भी अवश्य कर लिया जाय।

इस बैठक में सहायक सम्भागीय परिवहन अधिकारी व खनन अधिकारी के समय पर उपस्थित न रहने पर भी उन्होंने नाराजगी व्यक्त की और सचेत करते हुए कहा कि भविष्य में इस तरह के मामलो को गम्भीरता से लिया जायेगा। जिलाधिकारी ने खाद्य सुरक्षा विभाग के अधिकारियों को समय-समय पर खाद्य पदार्थों के सैंपल भरने के निर्देश दिये। अतिक्रमण के विरूद्ध भी समय-समय पर अभियान चलाकर चालान करना सुनिश्चित करेंगे। अवैध खनन सम्बन्धित मामलों को भी गम्भीरता से लेते हुए कड़ी कार्रवाही करना सुनिश्चित करे। सभी उपजिलाधिकारी व तहसीलदार सस्ते गल्ले की दुकानों, विद्यालयों, चिकित्सालयों, पटवारी चैकियों व तहसीलों का निरीक्षण अवश्यक करे।

बैठक में विभिन्न वादों के मामलों में सहायक अभियोजन अधिकारी, जिला शासकीय अधिवक्ताओं के साथ विस्तृत वार्ता हुयी। जिलाधिकारी ने मुख्य देयकों वूसली में तेजी लाने के निर्देश दिये इसके अलावा अन्य देयकों की वसूली के लिये भी एक अभियान चलाकर तेजी लाने के निर्देश दिये ताकि लक्ष्य की पूर्ति हो सके।

बैठक में अपर जिलाधिकारी के0एस0 टोलिया, उपजिलाधिकारी विवेक राय, गौरव चटवाल, अवधेश कुमार सिंह, प्रशिक्षु डिप्टी कलैक्टर मनीष बिष्ट, पुलिस उपाधीक्षक कमल राम आर्या, तहसीलदार नितेश डागर, प्रयाग दत्त सनवाल, मुख्य प्रशासनिक अधिकारी मनोहर लाल, आपदा प्रबन्धन अधिकारी राकेश जोशी, आबाकारी अधिकारी दुर्गेश्वर त्रिपाठी, सहायक अभियोजन अधिकारी अरूण गौड़, सी0एस0 नैनवाल युगल किशोर तिवारी सहित समस्त वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी, प्रशासनिक अधिकारी, पटल सहायक व अन्य विभागों के अधिकारी उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

उत्तरकाशी: बडकोट वन विभाग के गेस्ट हाउस के नजदीक जंगल में मिला युवक का शव।

वीरेंद्र सिंह /सनसनी सुराग -ख़बर बड़कोट से है