उत्तरकाशी: केदारनाथ आपदा में अकाल मौत हुए लोगों की स्मृति में बनाया स्मृति वन, विधायक गोपाल ने की वृक्ष लगाकर शुरुआत

उत्तरकाशी: केदारनाथ आपदा में अकाल मौत हुए लोगों की स्मृति में बनाया स्मृति वन, विधायक गोपाल ने की वृक्ष लगाकर शुरुआत

- in Uttarkashi
120
0

 

संतोष साह / उत्त्तरकाशी

16 जून केदारनाथ त्रासदी मे मारे गए लोगों की स्मृति में द्वारी फार्म में स्मृति वन का सृजन किया गया। त्रासदी में तब मारे गए 5700 लोगों को याद कर उनकी स्मृति में लगभग 6 हजार पौध रोपे गए। स्मृति वन के शुभारंभ में बतौर मुख्य अतिथि विधायक गोपाल रावत रहे जिन्होंने बृक्ष लगाकर स्मृति वन से हरियाली लाने का शुभारंभ किया। इस मौके पर कार्यक्रम के आयोजक जिले के डीएम डॉ आशीष चौहान ने भी वृक्षारोपण किया। द्वारी फार्म में आज स्मृति वन के करीब 9 हेक्टेअर में वृक्षारोपण किया गया। इस दौरान सहायक उद्यान अधिकारी एन. के.सिंह ने विधायक व डीएम को बताया कि द्वारी फार्म के स्मृति वन को 12 सेक्टर में बांटा गया है। प्रत्येक सेक्टर का नोडल अधिकारी बनाया गया है। 6 विभागों को जिम्मेदारी सौंपी गई है। उन्होंने बताया कि आज के कार्यक्रम में सभी विभाग वृक्षारोपण में शामिल हुए। इसमे आजीविका समूह लोगों को भी शामिल किया गया है जबकि पाही,द्वारी,बाँद्राणी के ग्रामीणों ने भी इस कार्य मे भागीदारी की। इन गांवो को 2-2 हजार वृक्ष भी रोपण के लिये दिये गए हैं। इस अवसर पर विधायक ने कहा कि जिस गांव के कृषक अपने ज्यादा वृक्ष बचाने औऱ उन्हें बेहतर पनपाने का कार्य करेंगे तो उस गांव के महिला मंगल दल को उचित कार्यो के लिये विधायक निधि से सहायता दी जाएगी। उन्होंने फार्म व स्मृति वन के घेरबाड़ को मनरेगा से करने व सिंचाई के लिये ड्रिप योजना के तहत जिला योजना से 10 लाख की मंजूरी देने की बात कही साथ ही बिजली सौभाग्य योजना के तहत प्रस्ताव रखने को कहा। इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी प्रशांत आर्य, डीएफओ संदीप कुमार,मुख्य उद्यान अधिकारी प्रभाकर सिंह,हरीश डंगवाल,जयबीर चौहान,ललिता सेनवाल, विजय संतरी,नागेंद्र चौहान,अरविंद नेगी,विजयपाल मखलोगा समेत अन्य व ग्रामीण मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

गांव बधुपूरा के जंगल में पुलिस व बदमाश के बीच हुई मुठभेड़, बदमाश को लगी गोली

ब्रेकिंग विशाल भटनागर कैराना। गांव बधुपूरा के जंगल