उत्तरकाशी : आल वेदर नहीं बल्कि बरसात का पूरा जुगाड़ करने की तैयारी

उत्तरकाशी : आल वेदर नहीं बल्कि बरसात का पूरा जुगाड़ करने की तैयारी

- in Uttarkashi
67
0

 

संतोष साह / उत्तरकाशी

आल वेदर के नाम पर बरसात का पूरा जुगाड़ हो रहा है। नियम कानून को ताक पर रखकर जिस तरह से पिछले एक साल से धरासू बैंड मे एनएचआईडीसीएल औऱ केसीसी कंपनी पहाड़ों को कुरेद रही है और उस पर जाले डाल रही है उसे देखकर नही लगता कि पहाड़ के सुरःक्षित रहते हुए लैंड स्लाइड की नौबत नही आएगी। पहाड़ का आदमी या फिर हेर किसी की जुबान यही कह रही है कि यह काम नही बल्कि बरसात का पूरा जुगाड़ तैयार हो रहा है। यानि बरसात में भूस्खलन की संभावना कही अधिक बढ़ सकती है और इससे गंगोत्री राजमार्ग बार-बार प्रभावित हो सकता है।
इधर आल वेदर के नाम पर जिस तरह से यहां पहाड़ो को छीला जा रहा है उस पर वन विभाग की भूमिका भी सवाल खड़े करती है। वन विभाग आल वेदर निर्माण कम्पनियो को नोटिस भर देने को रह गया है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार आल वेदर निर्माण से निकल रहे भारी मात्रा में मलवे को डंपिंग जोन में न डालकर सीधे गंगा में डाला जा रहा है औऱ यह काम रात मे हो रहा है ताकि इसका पता न चले। वन विभाग का कहना है कि वन संपदा नुकसान के अलावा नदी में मलवा न जाये इसको लेकर पूर्व में कंपनी के खिलाफ मामला भी दर्ज होने के साथ ही नोटिस व जुर्माना भी ठोका गया था। गौरतलब है कि इतना कुछ होने के बाद भी निर्माण कंपनी सीधे – सीधे नियम कानून ताक पर रखकर नदी समेत पहाड़ दोनो मे बरसात का जुगाड़ कर रही है। मसलन पहाड़ से भूस्खलन औऱ नदी मे मलवा उड़ेलकर एक तरह से बाढ़ का ख़तरा पैदा कर रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

भाजपा ने प्रेस कांफ्रेंस के माध्यम से केंद्र सरकार की पाँच साल प्रदेश सरकार के डेढ़ वर्ष और वर्तमान में मंडी संसदीय भाजपा प्रत्याक्षी के पाँच साल के उपलब्धियों की जानकारी दी ।

समर नेगी किन्नौर हिमाचल प्रदेश किनौर मुख्यालय के