बायोमेट्रिक प्रणाली द्वारा राशन वितरण शुरू करने से राशन डीलर एवं उपभोक्ताओं को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है

बायोमेट्रिक प्रणाली द्वारा राशन वितरण शुरू करने से राशन डीलर एवं उपभोक्ताओं को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है

- in Shamli
147
0

झिंझाना जनपद शामली से सनसनी सुराग न्यूज के लिए तस्लीम आलम के साथ डॉ0 रणवीर सिंह वर्मा
झिंझाना 10 फरवरी। ग्रामीण क्षेत्रों में बायोमेट्रिक प्रणाली द्वारा राशन वितरण शुरू करने से राशन डीलर एवं उपभोक्ताओं को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है । उपभोक्ताओं का अंगूठा निशान न आना , रेंज का भागना , या डीलर द्वारा मशीन का सही संचालन न होना , उपभोक्ताओं एवं राशन डीलरों के लिए परेशानी का सबब बना हुआ है ।अधिकारी मोन हैं।
वरिष्ठ मार्केटिंग इंस्पेक्टर पवन धामा ने बताया कि जनपद शामली के कस्बों में राशन डीलरो द्वारा बायोमैट्रिक सिस्टम से राशन का वितरण बीते एक वर्ष से किया जाना सफल प्रयोग रहा है । जिस में पारदर्शिता के चलते घोटाला खत्म हुआ है । इसी भांति ग्रामीण क्षेत्रों में भी बायोमैट्रिक सिस्टम लागू कर दिया गया है । शुरुआत कुछ दिक्कतों भरा जरूर होगी , लेकिन पारदर्शिता के चलते यह आम उपभोक्ताओं एवं राशन डीलरों के लिए लाभदायक ही सिद्ध होगा।
कस्बा झिंझाना के जमालपुर , चंदनपुरी के उपभोक्ता बायोमेट्रिक प्रणाली द्वारा राशन वितरण शुरू किए जाने से बेहद परेशान है । राशन डीलरों द्वारा मशीन का ठीक से संचालन न किया जाना, रेंज भागना , उपभोक्ताओं व डीलरों के लिए सिर का दर्द बन रहा है ।
उपभोक्ता सुभाष , जमील , राजवीर सिंह , बाबूराम , अनीस , साबिर , मंजुरा , अलमुद्दीन , शौकीन , शमीम , अख्तर आदि ने बताया कि कई बार पहुंचने के बाद भी , कभी मशीन चल रही , तो अंगूठे का निशान नहीं आ रहा , कभी मशीन में रेंज नहीं है , आदि कारणों से उन्हें राशन नहीं मिल रहा है । और बार-बार राशन डीलर के यहां चक्कर लगाने पड़ रहे हैं । उधर राशन डीलर खालिद एवं श्रीमती कुसुम ने बताया कि बायोमैट्रिक सिस्टम पर अंगूठा निशान या आंखों का निशान नहीं मिलता तो , किसी भी उपभोक्ताओं को राशन का वितरण नहीं किया जा सकता । अब यदि किसी उपभोक्ता का निशान नहीं आए या रेंज भाग जाए तो इसके लिए हम दोषी नहीं है । और सरकार को चाहिए की व्यवस्था ठीक हो जाए तो बेहतर होगा । अधिकारी कोई भी समस्या सुनने या राशन वितरण व्यवस्था देखने के लिए भी नहीं पहुंच रहा है । जिसके चलते राशन डीलर भी मन मर्जी से काम कर रहे हैं । कस्बा निवासी राशन डीलर अमरीश कुमार मित्तल ने बताया कि उसने कल 105 उपभोक्ताओं को सिस्टम के अनुसार राशन का वितरण कर एक रिकॉर्ड कायम किया है । मित्तल के अनुसार बायोमेट्रिक सिस्टम से राशन वितरण में पारदर्शिता आई है । कुछ परेशानी जरूर है। उपभोक्ताओ ने इसकी शिकायत उपजिलाधिकारी से करते हुए समस्या के निस्तारण की मांग की हैं। जब इस संबंध में पूर्ति निरीक्षका दीपा वर्मा से संपर्क किया गया तो वह फोन रिसीव नहीं कर सकी ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

शहीद के परिवार की मदद को बढ़ाये हाथ

  मौ० रविश ग्राम प्रधान ने की शहीद