मुख्यमंत्री के जाते ही शहीद के घर से सोफे-कालीन और एसी भी उतार ले गए अफसर

मुख्यमंत्री के जाते ही शहीद के घर से सोफे-कालीन और एसी भी उतार ले गए अफसर

- in Other Updates
67
0

अभिषेक कुमार सिंह (गोरखपुर) उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ आज जम्मू-कश्मीर में पाकिस्तान की बर्बर कार्रवाई में शहीद हुए बीएसएफ के हेड कांस्टेबल प्रेम सागर के घर देवरिया पहुंचे. सीएम योगी के आने की खबर मिलते ही दौरे से 24 घंटे पहले कुछ समय के लिए जिला प्रशासन ने आनन-फानन में शहीद के घर को पूरी तरह से हाइटेक बना दिया.

जानकारी के अनुसार, शनिवार को सीएम योगी आदित्यनाथ का बीएसएफ के शहीद हेड कांस्टेबल प्रेम सागर के घर जाने का कार्यक्रम तय था. इसे देखते हुए शहीद के घर के जिस कमरे में सीएम योगी उनके परिजनों से मिलने वाले थे, उसमें न सिर्फ एसी लगाया गया बल्कि सोफे और कालीन भी बिछा दिए गए. वहीं जैसे ही सीएम योगी शहीद के परिवार वालों से मिलकर गोरखपुर के लिए रवाना हुए, उसके आधे घंटे बाद ही सब कुछ वहां से हटा लिया गया.

गौरतलब है कि सीएम योगी के शहीद के गांव में पहुंचने के पहले ही अफसरों ने शुक्रवार को यहां डेरा डाल लिया था. शहीद प्रेम सागर के बेटे ईश्वर चंद्र ने बताया कि जिस कमरे में हमें सीएम योगी से मिलना था, उसमें शुक्रवार सुबह से ही बांस-बल्ली के सहारे एसी लगा दिया गया था. इतना ही नहीं, घर के तौलिए तक बदल दिए गए.

वहीं, जिला प्रशासन ने रात में ही मजदूरों को लगाकर घर के अंदर पेंट भी कर दिया. गांव की सड़कें भी रातों-रात चमक गईं. इसके अलावा नालियों को भी साफ करा दिया गया.

सीएम योगी के आश्वासन के बाद हुआ था अंतिम संस्कार

गौरतलब है कि साम्भा से शहीद का पार्थिव शरीर उनके गांव भाटपाररानी क्षेत्र के टीकमपार लाए जाने पर परिवार के लोगों के साथ ही क्षेत्रीय लोगों ने मुख्यमंत्री को गांव में बुलाने की मांग की थी. लोगों का कहना था कि जब तक मुख्यमंत्री नहीं आएंगे वे शहीद का अंतिम संस्कार नहीं करेंगे.

इस मामले की गम्भीरता देख गांव में मौजूद कृषि मंत्री सूर्यप्रताप शाही ने मोबाइल फोन पर मुख्यमंत्री से परिवार के लोगों की बात कराई. उनसे बातचीत के दौरान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 12 दिन के अंदर शहीद के घर आने का आश्वासन दिया था.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

अतिक्रमण हटा कर कौड़ीराम प्रशासन हुआ सतर्क।

अभिषेक कुमार सिंह (गोरखपुर) के लगातार कौड़ीराम मार्ग