भारतीय सेना के हमले से कांप उठा पाकिस्तान

भारतीय सेना के हमले से कांप उठा पाकिस्तान

- in delhi, International
541
0
@admin

-इंसानियत के दुश्मनों को अब घर में भी नही मिलेगा दुबकने को स्थान
-आतंकवाद पैदा करने वाली जमीन के नसीब में अब खून के आंसू

भारतीय सेना द्वारा जम्मू कश्मीर में नियंत्रण रेखा पार करके पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में स्थित आतंकवादियों के कुछ लांचिंग पैड पर सीमित सैन्य (सर्जिकल स्ट्राइक) कार्रवाई से आतंकवादियों को मारने के बाद उरी में शहीद हुए भारतीय सपूतों के वियोग में देश प्रेमियों की आँखों से छलक रहे आँसूओ को हर किसी ने पोछ लिया है।भारत माता का स्वाभिमान से सिर ऊँचा कर रहे सेना के सैन्य संचालन महानिदेशक लेफ्टिनेंट जनरल रणबीर सिंह व् मिशन में शामिल सैनिको को हर युवा, बड़े-बुजुर्ग और महिलाएं सल्यूट कर रही हैं।हिंदुस्तान की सर जमीन को अब ये विश्वास हो चला है कि इंसानियत की बजाए अपने बेटों को आतंकवाद का पाठ पढ़ाने वाले मुल्क को अब हर दिन खून के आंसू रोना पड़ेगा।

भारत के सपूतोंकी कुर्बानी सर चढ़कर दुश्मनों से हिसाब मांगेगी।शहीदों के शहादत से नीले से लाल पीला हुआ आसमान आतंकवाद उगाने वाली जमीन पर शोला बनकर बरसेगा।दुनिया में भय का वातावरण पैदा करने वालों को अब अपने ही देश में दुबकने के लिए जमीन नसीब न होगी।

स्पेशल कमांडो ने किया ऑप्रेशन:
सूत्रों के अनुसार केल, भीमबर, हॉट स्प्रिंग और लिपा में हमले किए गए। आतंकवादियों पर की गई इस कार्रवाई में स्पेशल फोर्स के कमांडो शामिल थे जिन्हे अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सर्वोत्तम श्रेणी के कमांडो माना जाता है। इस कार्रवाई के बारे में राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी और उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी को जानकारी दे दी गई थी। रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल इस अभियान की निगरानी कर रहे थे।

CCS बैठक में सुरक्षा स्थिति का जायजा:
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंत्रिमंडल की रक्षा मामलों की समिति (सीसीएस) की आज यहां हुई बैठक में नियंत्रण रेखा (एलओसी) की सुरक्षा स्थिति की समीक्षा की। बैठक में मोदी के अलावा रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर,गृह मंत्री राजनाथ सिंह,वित्त मंत्री अरुण जेटली,विदेश मंत्री सुषमा स्वराज,राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल,सेना प्रमुख जनरल दलबीर सिंह सुहाग आदि उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

आजादी के बाद कितनी आजाद हैं लड़कियां ? : भावना

भावना रावत / देहरादून आज हम सब आजाद