पूर्ण गुरु की महत्ता

पूर्ण गुरु की महत्ता

  • सतीशसेठी / सहारनपुर / सनसनी सुराग

सहारनपुर दिव्य ज्योती जाग्रती संस्थान के संस्थापक सर्व श्री आशुतोष जी महाराज जी की शिष्या साध्वी सुश्री देवेशा भारती जी द्वारा हक़ीक़त नगर मे सत्संग प्रवचनो में बताया गया कि आज का हर एक मानव अशांत है और शांति की तलाश में हर एक जगह शांति को ढूँढना चाहता है! परन्तु कहीं से भी उसको शांति प्राप्त नहीं होती क्योकि वो शान्ति को बाहर से प्राप्त करना चाहता है जो कि संभव नही है !

हमारे महापुरुषों ने हमें हमे धार्मिक ्त्रोंे के माध्यम से हमें बताया है कि बिना पूर्णगुरू के हमारा कल्याण नहीं है! जब एक इन्सान की ज़िन्दगी मे एक पूर्ण गुरू का पदार्पण होता है तो गुरू अपने शिष्य के मस्तक पर हाथ रखकर उसकी दिव्य दृष्टि खोलते है इन्सान उसी समय अपने घट के अन्दर उस परमात्मा के ज्योती सवरूप का दर्शन करता है और धयान साधना की गहराइयों में जब अपने अन्दर उतरता है तो तब धीरे धीरे अंदर से शांत होता चला जाता है !और तब उसकी भक्ति की शरुआत होती है आज के जीवन में एक पूर्ण गुरु का मिलना भी बड़ा मुश्किल है परन्तु जब एक इन्सान सच्चे मन से उस ेश्वर ईश्वर को पुकारता है तो उसकी हर एक पुकार ईश्वर तक पहुँचती है परतु हमारे पास यदि सही टेक्नीक ही नही है तो ेश्वर हमारी कहाँ सुनेगा !

बिना पूर्ण गुरू के हमारा जीवन अधूरा है गुरु के द्वारा जब हम ब्रह्मज्ञान को प्राप्त क़र लेते है तो हमारे जीवन मे अनेको ही बदलाव आते है.और हम दूसरों को भी सत्य का मार्ग दिखाने के के लिए प्रेरित करते है!

भजनो के माधयम से सभी संगत ने खूब आनंद उठाया !
इस मोके पैर श्री सुरेश गुप्ता ईश्वर चंद अलोक गुलशन सेठी संजीव सेठी राजू सेठीअंकित मयंक उमा वीणा मोना सीमा तन्वी सभी ने खूब आनंद उठाया!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

आजादी के बाद कितनी आजाद हैं लड़कियां ? : भावना

भावना रावत / देहरादून आज हम सब आजाद