अल्मोड़ा : 22 फरवरी को जनपद में आपदा पर माॅक ड्रिल

अल्मोड़ा : 22 फरवरी को जनपद में आपदा पर माॅक ड्रिल

- in Almora, states, Uttarakhand
166
0
@admin
  • अल्मोड़ा / सनसनी सुराग 
राष्ट्रीय आपदा प्रबन्धन प्राधिकरण इंसीडेंट रिस्पांस सिस्टम को और अधिक प्रभावी बनाने के लिए प्रदेश सहित जनपदों को आपदा से निपटने के लिए सक्रिय बनाने की तैयारी कर रहा है। इसी क्रम में 22 फरवरी को जनपद में माॅक अभ्यास (माॅक ड्रिल) कराये जाने का निर्णय लिया गया है यह बात प्रभारी जिलाधिकारी जे0एस0 नगन्याल ने आज जिला कार्यालय के सभागार में आयोजित एक महत्वपूर्ण में कही। उन्होंने बताया कि जनपद मुख्यालय में माॅक अभ्यास हेतु स्टेजिंग एरिया पुलिस लाईन, इंसीडेंट एरिया आकाशवाणी आवासीय परिसर, नगरपालिका एवं एडम्स इण्टर कालेज को चुना गया है। इसके साथ ही स्थायी स्वास्थ्य केन्द्र के लिए बेस चिकित्सालय बनाया गया है जिसमें राहत बचाव शिविर का कार्य किया जायेगा।
प्रभारी जिलाधिकारी ने बताया माॅक अभ्यास हेतु विभिन्न अधिकारियों को जिम्मेदारी सौंपी गयी है जिसमें स्टेजिंग एरिया मनेजर अपरजिलाधिकारी, लाउडस्पीकर चैलेजर स्टीकर/बैनर की व्यवस्था आपदा प्रबन्धन अधिकारी द्वारा की जायेगी। फर्नीचर, टैन्ट, साउण्ड सिस्टम, जनरेटर की व्यवस्था लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों द्वारा की जायेगी। मेडिकल रिसपांस पोस्ट का संचालन मुख्य चिकित्साधिकारी सहित उनके अन्य सहयोगी चिकित्साधिकारियों द्वारा की जायेगी। वायरलेस की स्थापना पुलिस रेडियो स्टेशन द्वारा की जायेगी। सैनिटेशन पोस्ट एवं अस्थायी शौचालय निर्माण अधिशासी अधिकारी नगरपलिका द्वारा की जायेगी। यातायात, पार्किंग, स्टेजिंग, रोड क्लेरनेंस की व्यवस्था पुलिस, लोक निर्माण विभाग व परिवहन विभाग के अधिकारियों के द्वारा की जायेगी। लाजिस्टिक की व्यवस्था सहायक संम्भागीय परिवहन अधिकारी द्वारा की जायेगी। राशन आपूर्ति की व्यवस्था जिला पूर्ति अधिकारी द्वारा की जायेगी। आकस्मिक विद्युत व्यवस्था, सौलर विद्युत व्यवस्था विद्युत व उरेडा विभाग के अधिकारियों द्वारा की जायेगी। पेयजल व्यवस्था जल संस्थान के अधिकारियों द्वारा की जायेगी। सुरक्षा अधिकारी की जिम्मेदारी उप प्रभागीय वनाधिकारी को दी गयी है। अस्थाई पशु चिकित्सा पोस्ट की जिम्मेदारी मुख्य पशुचिकित्साधिकारी को एअर आपरेशन की जिम्मेदारी उपाधीक्षक अल्मोड़ा, अधिशासी अभियन्ता ए0डी0बी0 को दी गयी है। अस्थाई शवदाह स्थल, पोस्टमार्टम व्यवस्था, डी0एन0ए0 सैंपलिंग की जिम्मेदारी पुलिस चिकित्सा, वन व नगरपालिका के अधिकारियों को दी गयी है। संशाधन जो विभिन्न विभागों में उपलब्घ है उनको उपलब्ध कराने एवं तत्काल क्रय करने आदि की जिम्मेदारी जिला आबकारी अधिकारी व तहसीलदार अल्मोड़ा को दी गयी है। इसमें वित्तीय अनियमितता न हो इसके लिए मुख्य कोषाधिकारी इस पर नजर रखेंगे। विभिन्न धार्मिक संस्थाओं से चेतावनी निर्गत कराने हेतु सम्पर्क अधिकारी की जिम्मेदारी जिला पर्यटन अधिकारी को दी गयी है। इंसीडेंट कमान पोस्ट का उत्तरदायित्व पुलिस रेडियों स्टेशन एवं लोक निर्माण विभाग को दी गयी हैं सूचना केन्द्र एवं खोया-पाया की जिम्मेदारी मुख्य कृषि अधिकारी, जिला उद्यान अधिकारी, महाप्रबन्धक जिला उद्योग केन्द्र व जिला सूचना अधिकारी को दी गयी है। वाहनों हेतु ईधन व्यवस्था के लिए जिला पूर्ति अधिकारी व नायब तहसीलदार को जिम्मेदारी दी गयी हैं। स्टेजिंग एरिया आब्र्जबर एवं डी0ओ0सी आब्र्जबर की जिम्मेदारी शिक्षा विभाग के अधिकारियों को दी गयी है।
जिला विकास अधिकारी/लाईजिनिंग अधिकारी आर0एस0 मोहम्मद असलम ने पाॅवर पाइंट के माध्यम से माॅक अभ्यास के बारे में विस्तृत रूप से बताया और कहा कि सभी अधिकारी पूर्ण जिम्मेदारी के साथ कार्य कर इस कार्य को सम्पन्न करायेंगे और 22 फरवरी को आयोजित होने वाले माॅक अभ्यास के लिए पूर्ण तैयारी के साथ आयेंगे। इस अवसर पर वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक दलीप सिंह कुॅवर, अपरजिलाधिकारी के0एस0 टोलिया ने अपने अनुभवों को बताते हुए पूर्ण तैयारी के साथ आने के लिए कहा। इस महत्वपूर्ण बैठक में कुमाऊॅ रजीमेंट के मेजर विक्रान्त ठाकुर, उपजिलाधिकारी सदर विवेक राय, उपजिलाधिकारी द्वाराहाट गौरव चटवाल, उपजिलाधिकारी सोमेश्वर अवधेश कुमार, अधीक्षण अभियन्ता लो0नि0वि0 हरीश पांगती सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी, राॅक लिजोर्ड सोसायटी के विनोद भटट अन्य आपदा प्रबन्धन से जुड़े कर्मचारी उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

स्वच्छ वार्ड को हर माह दो लाख का पुरस्कार सुनिश्चित करे नगर निगम

स्वच्छ वार्ड को हर माह दो लाख का